Sunday, November 15, 2009

गालिब

यह न थी हमारी किस्मत, के विसाल- ए- यार होता
अगर और जीते रहते, तो यही इंतज़ार होता

तेरे वादे पर जीये हम, तो यह जान झूट जाना
के ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता

तेरी नाज़ुकी से जाना, के बंधा था इहेद बड़ा
कभी तू न तोड़ सकता, अगर ऊस्तुवार होता

कोइ मेरे दिल से पूछे, तेरे तीर- ए- नीमकश को
ये खलिश कहाँ से होती, जो जिगर के पार होता

ये कहाँ की दोस्ती है, के बने हैं दोस्त नासेह
कोइ चारासाज़ होता, कोइ ग़मगुसार होता

रग- ए- संग से टपकता, वो लहू कई फिर न थमता
जिसे ग़म समझ रहे हो, ये अगर शरारह होता

ग़म अगरचेह जान गुलिस है, पर कहाँ बचाएँ के दिल है
ग़म- ए- इश्क गर न होता, ग़म- ए- रोज़गार होता

कहूँ किस से मैं के क्या है, शब् -ए -ग़म बुरी बला है
मुझे क्या बुरा था मरना, अगर एक बार होता

हुए मर के हम जो रुसवा, हुए क्यों न गर्क- ए- दरिया
न कभी जनाजा उठता, न कहीं मजार होता

उसे कौन देख सकता, के यगाना है वो यकता
जो दूई की बू भी होती, तो कहीं दो चार होता

ये मसाल- ए- तसव्वुफ़, ये तेरा बयान 'गालिब '
तुझे हम वली समझते, जो न बादा ख्वार होता

6 comments:

  1. गालिब की तो बात ही कुछ और है जैसा कि वे खुद ही कहते हैं ।

    हैं यूं तो दुनिया में सुखनवर कई अच्छे
    कहते हैं कि गालिब का है अंदाजे बयाँ और ।

    ReplyDelete
  2. This is one of my most favorite ghazals of Ghalib, especially the maqta.

    ReplyDelete
  3. जिंन्दगी यू भी गुजर ही जाती
    क्यो तेरा राहगुजर याद आया

    मैने मजनू पे लडकपन मे "असद "
    संग उठाया था तो सर याद आया

    ReplyDelete
  4. Ashaji

    wah wah kyaa baat hai..

    ReplyDelete
  5. Ganesh thanks for sharing..

    ReplyDelete