Wednesday, January 26, 2011

दिल से दुआ मुझे दे के तो देखो
आज आंसू मेरे गिरा के तो देखो

मेरी परछाई मेरे गम की स्याही
इस अँधेरे को उतार के तो देखो

मस्ती भरे पल मेरे साथ साथ
आज कुछ देर साथ आ के तो देखो

बड़ी बेदर्दी से पला है मुझ में
उस दिल की बात सुन के तो देखो

4 comments:

  1. वह! बहुत खुबसूरत ग़ज़ल| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  2. बड़ी बेदर्दी से पला है मुझ में
    उस दिल की बात सुन के तो देखो

    w a a h !!

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद daanish..

    ReplyDelete